Tuesday, September 29, 2015

चित्रपट गीत


 चित्रपट गीत 

चित्रम पेसुतड़ी ---=चित्र बोलता है 

उन चित्तिरम  पेसुतडि -एन  चिंतै  मयंगुतड़ी  --=-तेरी तस्वीर बोलती  है , मेरा मन होता है बेहोश !

आयिरत्तिल  ओरुत्ति --हज़ारों में तू एक। 

 नायक --नायिका --

पाट्टु वरुम ,====================    गाना आएगा।
उन्नैप्पार्त्तुक्कोण्डिरुनथाल  पाट्टु वरुम == तुझे देखती रहूँ तो गाना आएगा।

अतै पूंगुइल कूट्टंगल सेरन्तुवरम = उसमें कोयल के झुण्ड मिलकर आएगा। 

अतै   केट्टूक्कोण्डिरुनताल   आट्टम वरुम --उसे सुनती रहूँ  तो नृत्य आएगी। 

अंत आट्टत्तिल पोंन  मईल  कूट्टम  वरुम --उस नाच में स्वर्ण किरण केझुँड आएगा। 

इदयम  एन्रोरु एडु एडुएडुत्तेन == ह्रदय नामक नोटबुक लिया।

अतिल एत्तनैयो  एलुति वैत्तेन == उसमें कई बातें लिखकर रखीं। 

एलुतियतेल्लाम  उन पुकऴ  पाडुं ---जो कुछ लिखा ,वे तेरे यश गायेगा। 

वेरु  एन्न  वेंडुम --और क्या चाहिए। 

कातल  एन्रोरु  शिलै  वडित्तेन ==प्रेम नामक शीला बनायी। 

अतिल कन्कल  इरंडिल सिरै एडुत्तेन ---उसे दोनों नेत्रों के  जेल में  डाला। 

सिरै  एडुत्तालूम  कावलने ----कैद करने पर भी वह है रखवाला। 

कावलन वालविल पातियुम नाने. ---रखवाले के जीवन में अर्द्ध भाग मैं हूँ। 

मनमेनुम ओडैयिल  नींति वन तेन ==मन नामक नाले में दौड़ आया। 

अतिल मलर  मुख़म  ओनरु  एन्ति  वन्तेन == उसमें एक पुष्पमुख ले आया। 












Monday, September 21, 2015

ताज़्ज़ुब उसकी प्रगति ;

हिंदी  कैसी  भाषा है ?

ऐसी वैसी भाषा नहीं है?

१९वी  सदी  में जो सरल हिन्दी ,,
भारतेंदु काल  से   अति तीव्र गति से विश्व की तीसरी भाषा;

कितने विरोध ;

तमिलनाडु में बसें जली ; रेल जली.  कइयों के प्राण चले;

अपने आप पली ; जल सींचे कुछ लोग ;

अनुकूल वर्षा भी हुयी ;

ताज़्ज़ुब  उसकी प्रगति ;
पर अंग्रेज़ी  मगर मच्छ  उसको निगलना ही चाहता है;

फिर भी आग़े  हैं हिंदी;
नेहरू की गलती ; अन्नादुराई की अदूरदर्शिता ;
आज जयललिता प्रधान मंत्री बनना चाहती
मुरासोली मारन केंद्र में मंत्री बनना चाहता हैं
उनकी एक मात्र योग्यता
हिंदी विरोधीदलों  का बयान
वे सब जानते हैं हिंदी;
राष्ट्र पिता गांधीजी की दूरदर्शिता चमक रही है
हिंदी की हो रही है

Friday, September 18, 2015

learn hindi tamil

सुनो -suno --   கேள் kel

देखो --dekho --பார் paar

सोचो -socho --யோசி

बोलो -bolo --பேசு pesu

क्या सुना -kya  sunaa ?? என்ன கேட்டாய் /?  enna   kettaay

क्या देखा -क्या देखा ?kya  dekhaa--என்ன பார்த்தாய் ? enna  paarththaay ?
क्या बोला --kya  bola  ?  -என்ன பேசினாய் ?enna  pesinaay

जो  सुना ,जो देखा ,जो बोला  सब के सब गोपनीय है.

jo  suna ,jo  dekha ,jo  bola   sab  ke  sab  gopaneey  hai.

 ,கேட்டது  பார்த்தது  பேசியது எல்லாமே மந்தணமானது . (ரஹசியமானது )




Thursday, September 17, 2015

सोचो ; शुभ कार्य में न करो देरी ;

देश की भलाई करो मोदीजी ,
किसानों की अड़चनें दूर करो मोदीजी
काले धनियों  के धन छीन
हर भारतीय को बनाओ करोड़पति
अनंतकाल पूजनीय बनोगे मोदीजी ;
आजीवन स्थिरप्रधान मंत्री आप ही मोदीजी।

१३०० करोड़ काले धन में एक करोड़ सिर्फ
एक करोड़ भारतीयों को बाँटो ;
हाथ में   न दो;
 बनाओ हर बचत हिसाब की स्थाई निधि ;
गरीबी भगा दो ;हर महीने मिले सूद ;
केवल ५% सूद ; पूँजी  रहे देश हित  के काम ;
जुग  जुग जिओ बनो ;
भारत के स्थायी प्रधान मंत्री;

अग जग की प्रशंसनीय प्रधान मंत्री बनो;

दुःख हरो देव ; सोचो ; आगे बढ़ो ;

निधि है भारत में ; नीति चाहिए उचित बँटवारे  के लिए;
सोचो ; शुभ कार्य में न करो देरी ;
जन्म दिन  की हमारी माँग ;
पूरी करो ;सार्थक बनाओ इस उच्च पद का ;
और इस जन्म पुनीत कर्म का।




Wednesday, September 16, 2015

आया  था अकेला ,
दोस्त मिले अनेक ;
ज्ञान, उम्र , अनुभव ,न्याय ,ईमानदारी  के मार्ग दर्शक ;
 बड़े बड़े ; उनके प्रयत्न ;पर दाल न गला ;
ईश्वर  की माया ;
एक तो रोग ,
न तो बुढ़ापा
न तो  दुर्घटना ;
उनको सदा के लिए संसार से भगा देता;
दोस्त केलिए दोस्त ;
पिता के लिए पुत्र ;
पति  के लिए पत्नी ;
पुत्र के लिए माँ -बाप ;

यम के निर्दय करकमल उठाकर ले चलने से

चन्द  दिन  रहते  हैं ;

फिर ईश्वरीय देन   कहते दुःख सहने के आदि हो जाते !

अशाश्वत संसार में जीने की आशा से
अन्याय अत्याचार भ्रस्टाचार रिश्वत आदि को
अपनाकर  धर्म अर्थ काम मोक्ष में फंसकर
संसार धाम छोड़ देते हैं;
यही दार्शनिक समझाते रहते हैं ,
ढोंगियों के शासक ,सन्यासी उनके अनुचर
सब काल कवलित हो जाते हैं;
संसार योन ही चलता हैं






Tuesday, September 15, 2015

श्री बालशौरि रेड्डी जी

चन्दामामा के संपादक ,

दक्षिण भारत हिंदी प्रचार सभा के पूर्व कर्मचारी 
हिंदी के प्रेमी 
हिंदी के लेखक 
दक्षिण में जन्मे 
अखिल भारतीय हिंदी योजना में 
सम्मिलित ;

तमिलनाडु हिन्दी अकादमी का संस्थापकों में एक 

मौखिक परीक्षा के संचालक सचिव !

श्री बालशौरि रेड्डी जी 


आज अचानक ईश्वर के प्रेमी  बन गए !

सदा के लिए हमें छोड़कर चले गए!

उसकी दिव्य आत्मा की श्रद्धांजलियाँ!
उनसे बिछुड़े उनके परिवार जनों को 
सान्तवना !
दिवंगत आत्मा को ईश्वर शान्ति दें !


நல்ல விதத்தில் பயனாகட்டும் - सदुपयोग में लग जाएं !

विघ्नेश !श्री गणेश !सभी श्रीगणेश के काम के अग्र देव !
விக்னேஷா!ஸ்ரீ கணேசா !
ஆரம்பிக்கும் எல்லாவேலைக்கும் முதல் தெய்வமே  !
துளசி பாடினார்  ! பாடுங்கள் !கணபதியே !யானை முகத்தோனே !
யாருக்காக ?
ராமரின் கிருபை பெறுவதற்காக .
இவ்வாறு பாரத பக்தி முறைக்கு அடிப்படை தேவதை !
ஆடி தேவதை !சகோதரனின்  காதல் திருமணத்திற்கு உதவியாளன் !

உன் சரணங்களில் பணிவான வந்தனம் !

களிமண் உருவ விசர்ஜனத்தில் உன் பக்தி ஆரம்பமாகியது .
இன்று உன் இருபது முப்பதடி அழகிய உருவங்களில் 
கடலில் எறியப்பட்டு சின்னாபின்னமாக கரையில் சேர்க்கிறது.
இந்தப் பழக்கம் புதியது ; உனக்கு அவமானம் !

உன்னிடம் ஒரு பணிவான வேண்டுகோள் !
உன் பக்தர்களின் மனதி  ஒரு என்னத்தைச் சேர் !

கோடிக்கணக்கில் வீண் !
கடலில் எறிவதில் ஹிந்து சனாதன தர்மத்தில் 
ஏழை எளியவர்களின் துன்பங்களுக்கு 
நல்ல விதத்தில் பயனாகட்டும்.
तुलसी से रचना की -गाइये !गणपति !गजवदना !
किस केलिये?
 राम की कृपा पाने के लिये !
यों ही भारतीय भक्ति प्रणालियों के मूल -देवता !
आदि देवता ! भाई के प्रेम प्रणय के सहायक !
तेरे चरणों में विनम्र वन्दना!
मिट्टी की मूर्ति के विसर्जन में तेरी भक्ति शुरु हुई !
अब तेरी हज़ारों सुन्दर बीस -तीस फुट की लम्बी मूर्तियाँ
समुद्र विसर्जन में लहरों की चोट खा छिन्न -भिन्न हो किनारे पर आ जमा होते हैं.
यह प्रथा नयी तेरा अपमान !
विघ्नेश !तेरे चरणों में निवेदन !
भक्तों के दिल में जमाओ ;
यह विचार !करोड़ों रुपये बेकार ;
समुद्र विसर्जन हिन्दू सनातन धर्म के दीन -दुखियों के
सदुपयोग में लग जाएं !

जरा सोचिये ;-- கொஞ்சம் சிந்தியுங்கள்;

विदेशी पूँजी ==அயல்நாட்டு  மூலதனம்
विदेशी भाषा --அயல் நாட்டு மொழி
विदेशी पो षाक ==அயல்நாட்டு ஆடைகள்
विदेशी भोजन ==அயல்நாட்டு உணவு
विदेशी कार ==அயல்நாட்டு கார்
विदेशी घड़ी ==அயல்நாட்டு கடிகாரம்
विदेशी  मॉल /माल  அயல்நாட்டு கடை  சந்தை / பொருள்கள்
 न हो तो न आय ! இல்லை என்றால் வருமானம் இல்லை .
आजादी के ६७ वर्ष का सुशासन  का फल;   விடுதலை யின் 67 ஆண்டின் நல்லாட்சி பலன்,

आय  चाहिए तो--- வருமானம் வேண்டுமென்றால்
भारतीय कलाएँ ,  இந்திய கலைகள்
भारतीय कृषि--இந்திய விவசாயம்
भारतीय कुटीर उद्योग==இந்திய குடிசைத்தொழில்
भारतीय हथकरघे----இந்திய கைத்தறி

गया तो मैं अमेरिका---அமெரிக்கா

पता नहीं बड़ा मैदान मेरे बेटे के घर के बीच ==என் மகனின் வீட்டிற்குப்பின்
समय नहीं कटा तो ४*४ *४  का बाग़ बनाने खोदा --நேரம் போகாததால் 4*4*4=64 ச.அ
बीज जो बोया वह उगा। விதை விதைத்ததும் அது வளர்ந்தது .
मेरा  कठोर परिश्रम का फल तो मिलगया।---என் கடின உழைப்பின் பலன் கிடைத்துவிட்டது.
वह सितम्बर का अंतिम सप्ताह ; அது செப்டம்பர் மாதத்தின் கடைசி வாரம்
एक दिन पड़ोसी  बोला  तो हँसा ஒருநாள் பக்கத்துவீட்டாரிடம்  பேசினால்  அவன் சிரித்தார்.
अभी तो विन्टर  शुरू होनेवाला है---இப்பொழுதே குளிர் ஆரம்பமாகப்போகிறது
आपका परिश्रम बेकार ; உங்கள் உழைப்பு வீண் .
यहॉं  की मिट्टी भी खेती के लायक नहीं ;-இங்குள்ள மண்ணும் விவசாயத்திற்கு உகந்ததல்ல.
माल जाओ वहॉं  मिट्टी लाओ ;--மாலுக்கு சென்று மண் கொண்டுவா.
ग्लौस  नहीं ,जूता नहीं ,टोपी नहीं  கை உரை இல்லை ; செருப்பு இல்லை.தொப்பி இல்லை ;
उसको आश्चर्य लगा ; அவனுக்கு ஆச்சரியம்
अक्टूबर बीस तारीख तक  परिश्रम बेकार ; அக்டோபர் இருபது தேதி வரை உழைப்பு வீண்.
ऊंचे ऊंचे पेड़ पत्ते गिरकर सूखकर कांटे हो गए ;உயர்ந்த மரங்கள் இலைகள் உதிர்ந்து முள் போன்று நின்றன
बाहर जाने चार कपडे पहनने पड़े ; வெளியில் செல்ல நான்கு ஆடைகள் அணிய நேர்ந்தது.



 भारत आया , ==இந்தியாவிற்கு வந்தேன் .

==थोड़ी सी जमीन पर भिन्डी और करेली के बीज बोये; --சிறிய நிலத்தில் வெண்டைக்காய் பாவற்காய் விதைத்தேன்.
फिर  ध्यान भी नहीं  दिया;=பிறகு கவனிக்கவில்லை.

पोधे उगे ;=செடிகள் வளர்ந்தன.
=करेली  हरी लताएँ फैली ; பாவற்காய் பச்சைக்கொடி படர்ந்தது.
भिन्डी मिले ; =வெண்டை கிடைத்தது
करेली मिले;=பாவற்காய் கிடைத்தது.

भारत भूमि स्वर्णभूमि==இந்திய பூமி பொன்விளையும் பூமி ;
यहाँ  है मेहनत की कमी ; =இங்கு உழைப்பு குறைவு.
धनिया के बीज बोये ; கொத்தமல்லி விதைத்தேன் .
मेहति  बोये महती मिले;--வெந்தயம் விதைத்தேன் -வெந்தயம் கிடைத்தது.
अमरूद के पेड़ ,==கொய்யாப்பழம் மரங்கள்.
नारियल के पेड़ जो लगा ,தென்னை நட்டேன்
बढ़कर फल देने लगे ;வளர்ந்து பழங்கள் பலன் கொடுக்கத்  துவங்கியது.
दस  रूपये की हरी सब्जी बीज , பத்து ரூபாய்கள் பச்சை கீரை விதைகள்.
आँगन में हरी सब्जी मिली ;==முற்றத்தில் பச்சைக்கீரைகள்.

सडकों पर इमली के पेड़ ,=வழியில் புளிய மரங்கள்.
कितनी  उर्वरा भूमि==எவ்வளவு பசுமையான பூமி.

विदेश की प्रशंसा में अनाथ माँ  -बाप ;== வெளிநாட்டில் புகழில்  அனாதை  பெற்றோர்கள்;
अनाथ बच्चे;=அநாதை குழந்தைகள்;
 पिता जानने जीन टेस्ट ;=அப்பாவை அறிய  மரபணு   சோதனை
उनके चेहरे पर उदासी ; =அவர்கள் முகத்தில் வருத்தம்.
घर के बाहर बे टा खड़ा था;=வீட்டிற்கு வெளியில் மகன் நின்று கொண்டிருந்தான்.
पिता दूसरी प्रेयसी के बाँहो में---அப்பா அடுத்தவன் காதலியின்  அணைப்பில்.
बाहर आया ,=வெளியே வந்தான்.
चूमा ;முத்தமிட்டான்.
 कुछ दिया ;கொஞ்சம் கொடுத்தான்;
बेटा  पीड़ित चेहरे केसाथ चला. மகன் மனவருத்தமுடன் முகத்தில் சென்றான்.
अचनाक उसकेसामने  एक महिलाआई==திடீரென்று   அவனுக்கு எதிரில் ஒரு பெண் வந்தால் .
उसके साथ खड़ा था एक जवान; அவளுடன்  ஒரு இளைஞன் நின்று கொண்டிருந்தான்.
पूछ ताछ की तो वह उसकी माँ ; விசாரித்ததில் அவள் அவனின் அம்மா.
वह भी बेटे  को चूमा ;=அவனும் மகனை முத்தமிட்டான்.
 आलिंगन करके प्रेम जताया ; கட்டிப்பிடித்து அன்பு சொன்னாள் .
चली गयी ;-சென்றுவிட்டாள் .
आगे पूछा  तो पता चला , மேலும் கேட்டதும் அறிய முடிந்தது.
उसी को योग्य लड़की ढूंढनी  है;-அவன் தனக்குத் தகுந்த பெண்ணைத் தேடவேண்டும்.
लड़की को खुद योgya  लड़का ढूंढ़ना है ;--பெண்ணுக்குத் தகுந்த பையனத் தேடவேண்டும்.
खुद कमाना है; தானே சம்பாதிக்க வேண்டும்.
 उच्च शिक्षा कमाईकेसाथ; உயர்கல்வி  சம்பாத்தியத்துடன்.
एक ही पति -एक ही पत्नी से जल्दी ऊब जाते हैं वे ; ஒரே கணவன் ஒரே மனைவியுடன் அவர்கள்  சலிப்படைந்து விடுகிறார்கள்.
चंदसालों में बेचलर लाइफ बिना पति के या बिना पत्नी के; சில ஆண்டுகளிலேயே மனைவி அல்லது கணவன் சில ஆண்டுகளில் ஒருவர் இல்லா த  பிரிந்த தனி வாழ்க்கை.
पशु सा जीवन;==மிருகம்  போன்ற வாழ்க்கை.
उनके नक़ल करके भारतीय युवक युवतियां प्रेम के चंगुल में पड़कर
अदालत के द्वार पर खड़े हैं; அவர்களைப் பின்பற்றி இந்திய இளைஞர்கள் இளைஞிகள் காதல்  நீதிமன்ற  வாயிலில் நின்று கொண்டிருக்கின்றார்கள்.
माता -पिता अनाथ;-பெற்றோர்கள் அநாதை.
क्या भारतीय त्याग मय  सम्मिलित जीवन का लापता हो रहा है; இந்திய தியாகம் நிறைந்த கூட்டுக் குடும்பம்  மறைந்து கொண்டிருக்கிறதா ?

देशी अपनाइये;     நாட்டுப் பழக்கங்களை ஏற்றுக்கொள்ளுங்கள்.

जरा सोचिये ;-- கொஞ்சம்  சிந்தியுங்கள்;
ஜய்  பாரத் !


Thursday, September 10, 2015

हिंदी है आसान

हिंदी सहज भाषा
है।
सुलभ है
अपने नाम के अपनेदोस्तों के नाम का अर्थ समझो
हिंदी  आसान है।
विजय vetri
पक्षी  paravai
लक्ष्य lachchiyam kurikkol
वाक्य  vaakkiyam

Tuesday, September 8, 2015

; धर्म गुरु एक ; धर्म प्रचारक अनेक ;தர்ம குரு ஒருவர் ;தர்ம பிரசாரக் அநேகர்;


ham  aage badhenge :  हम आगे बढ़ेंगे। --  நாம்  முன்னேறுவோம்.


hamaaraa uddeshya pragatee karna.--हमारा उद्देश्य प्रगति करना है. 
நமது நோக்கம் முன்னேற்றம் செய்வது,


kiskee pragati ?  किसकी प्रगति ?யாருடைய முன்னேற்றம் ?


desh kee ? देश  की ? நாட்டினுடைய ?

apnee ? अपनी /?தன்னுடைய 


dharm kee ? धर्म की ?தர்மத்தின் ?


karm kee ? कर्म की /செயலின் 



kutumb kee ?कुटुंब की /குடும்பத்தின் 


kabeer  ne kahaa hai  khud apne ko pee ne keliye paanee   naheen  hai  to 

कबीर ने  कहा  है  --खुद को पीने   के लिए    पानी नहीं तो 
கபீர் சொல்லிஇருக்கிறார் ---தனக்கே குடிக்க தண்ணீர் இல்லை 

 दूसरों को कैसे    दूध   पिलाओगे ?

doosron ko kaise doodh pilaoge  ?
மற்றவர்களுக்கு எப்படி பாலூட்டுவாய்?


vyaktigat pragati men hee samaaj kee bhalyee hai .

व्यक्तिगत प्रगति में  ही समाज  की भलाई 
தனிப்பட்ட முன்னேற்றத்தில் தான் நாட்டின் முன்னேற்றம்.


kaise /?  எப்படி ?

gnyaan vyakigat ----gyaan prapt karna saamaajik ;

அறிவு ப தனிப்பட்டது ; அறிவு பெறுவது சமூகத்தில்.

dimaag  vyakti gat;  दिमाग व्यक्तिगत। மூளை  தனிப்பட்டது.

tarakkee saamoohik.तरक्क़ी   सामूहिक  முன்னேற்றம்  சமுதாயம் 

yah baandh kisne baandha ? यह बाँध किसने   बाँधा ? இந்த அணையை கட்டியது யார் ?

is irashna  kaa uttar  vyaktigat . इस प्रश्न का  उत्तर व्यक्तिगत. 

இந்தவினாவிற்கு விடை தனிப்பட்டது.

yojana ek vyakti kee . योजना एक व्यक्ति की =திட்டம் ஒரு மனிதனுடையது.

par baandh ek vyakti dvaaraa baandh na asambhav . पर  बाँध एक व्यक्ति द्वारा बााँधना असंभव। 

ஆனால் ஆணை ஒருமனிதனால் கட்டுவது இயலாது .


banaane saikdon kee mehnat . बनाने में सैकड़ों की मेहनत। நூற்றுக்கனக்கானவர்களின் உழைப்பு கட்டுவதில் 

phal desh bhar ka .फल देश भर का।  நாடு முழுவதற்கும் பலன் .

atah vyaktigat  men saamoohik  bhalaayee.  अतः व्यक्तिगत में सामूहिक भलाई। ஆகையால் தனித்தவர்களால் சமுதாய நன்மை ,

saamoohik  vikaas men vyaktigat bhalaayee.  सामूहिक विकास में व्यक्तिगत  भलाई। சமுதாய முன்னேற்றத்தில் தனிப்பட்டவர்களின்  நன்மை.


gurunaanak ek ; buddh ek ;eesa ek; muhammad ek '' गुरुनानक एक; बुद्ध एक ; ईसा  एक ;मुहम्मद एक ;

குரு நானக் ஒருவர்,ஏசு  ஒருவர் 

mahatma mohandaas gandhi ek ;

महात्मा मोहनदास   गांधी एक। 
மகாத்மா மோகன்தாஸ் காந்தி ஒருவர் ,

aazaadee keshaheed anek'==आजादी के  शहीद  अनेक; சுதந திரத் 

தியாகிகள் அநேகர் /



dharm guru ek dhrm pracharak anek; धर्म गुरु  एक ; धर्म प्रचारक अनेक ;தர்ம குரு ஒருவர் ;தர்ம பிரசாரக் அநேகர்;

vyakti vyakti kee  pragati men hee ek desh  kee pragati nirbhar  hai . व्यक्ति व्यक्ति की प्रगति में ही एक देश की प्रगति  निर्भर है;

ஒவ்வொரு மனிதனின் முன்னேற்றத்தில் தான் ஒருநாட்டின் முன்னேற்றம் சார்ந்துள்ளது .

கந்தன் திருநீர் /श्री स्कन्द की विभूति

கந்தன் திருநீர்  அணிந்தால் கண்ட பிணி ஓடிவிடும்.

ஸ்ரீ ஸ்கந்த  கீ விபூதி தாரண்  கரேன்  தோ  ,பீமாரீ ஜோ ஹை   bhaag  ஜாயேகீ .
श्री स्कन्द की विभूति  धारण करें  तो बीमारी भाग जाएगी 


குந்தகங்கள் மாறி இன்பம் குடும்பத்தை  நாடிவரும்.

கஷ்ட பதல்கர் சுக் பரிவார் மென் தௌட்  ஆயேகா.
कष्ट बदलकर सुख परिवार में दौड़ आयेगा.

 ஸ்ரீ ஸ்கந் கே அபிஷேக் விபூதி தாரன் கரேன்  தோ
श्री स्कन्द के अभिषेक विभूति  धारण करें तो

வஹாம் பிரதீக்ஷா மேன் கடி  மாம் லக்ஷ்மி  தௌட் ஆஏகீ
वहाँ  प्रतीक्षा में खड़ी माँ  लक्ष्मी दौड़ आयेगी



और  சித்த கோ ஷீத்தல் கரேகீ .

और चित्त को शीतल करेगी ;

 और  ரிஷ்தே மனாயேங்கீ
और रिश्ता   मनायेगी ;
சுந்தரவேல் அபிஷேக  சுத்தத்திருநீரணிந்தால்

அந்தநேரம் காத்திருந்த  அன்னை  செல்வம்

ஓடிவந்து சிந்தையை குளிரவைக்க சொந்தங்கள் கொண்டாடிடுவாள்.


மணம்  நிறைந்த சாம்பலிலே மகிமைஇருக்குதடா
சுகந்தித் விபூதி மேன் மகிமா ஹை ரே .
सुगन्धित विभूति में  महिमा है रे।


மனமுடன் அணிவோருக்கு மகிழ்ச்சியைப் பெருக்குதடா
மண் லகாகர் பஹ்னே தோ  ஆனந்த உமட் படேகா .

मन से लगाकर पहने तो आनंद उमड़ बढ़ेगा रे।
தினம் தினம் நெற்றியிலே திருநீறு அணிந்திடடா
தின் தின்  லலாட் பர் விபூதி தாரன் கரோ ரே
दिन दिन ललाट पर विभूति धारण कर रे
தீர்ந்திடும் வஞ்சமெ ல்லாம்  தெய்வம் துணை காட்டுமடா

துக்  ஹரேகா  ஈஸ்வர் சாத் ரh கர் மார்க் திகாஏகா .
दुःख हरेगा ईश्वर ,साथ रहकर  दिखायेगा मार्ग।


hindi -tamil -seekho --ले जाता है. le jaataa hai .அழைத்துச் செல்கிறது.

हम  भगवान के दर्शन के लिए तीर्थयात्र  करते हैं.---
ham bagavaan ke darshan ke liye teerth yaatra karte hain .

ஹம்  பகவான் கே தர்ஷன் கே லியே தீர்த் யாத்ரா கர்தே ஹைன் .

நாம் இறைவனை தரிசிக்க தீர்த்த யாத்திரை செல்கிறோம் .

भगवान तो सर्वत्र विद्यमान है;
bhagavaan to sarvatr vidyamaan hai;
பகவான் தோ  சர்வத்ர வித்யமான்  ஹை .
கடவுள் எல்லா இடங்களிலும் இருக்கிறார்.

फिर भी तीर्थयात्र  के विशेष  दर्शन में 
phir bhee teerthyaatra  ke vishesh darshan
பிர் பீ தீர்த்யாத்ரா கே விசேஷ் தர்ஷன் மேன் 
பிறகும் தீர்த்த யாத்திரையின் விசேஷ தரிசனத்தில் 
आध्यात्मिक प्रेरणा मिलती है;
ஆத்யாத்மிக் பிரேரணா   மில்தீ   ஹை .
ஆன்மீக தூண்டல் கிடைக்கிறது.

aadhyaatmik prernaa miltee hai;

हर एक मंदिर का एक स्थल वृक्ष होते है;
har ek mandir ka ek sthal vruksh hote hain.
ஹர் ஏக்  மந்திர் கா ஏக்  ஸ்தல்  வ்ருக்ஷ்  ஹோதே ஹைன்.
ஒவ்வொரு கோயிலிலும்  ஒரு ஸ்தல வ்ருக்ஷம் இருக்கிறது.

उनके पत्ते ,फूल ,फल ,प्रदक्षिणा ,पहाडपर चढ़ना 
unke patte .phool phal pradakshina ,pahaad  par chadhnaa
உனக்கே பத்தே ,ப் பல்,ப்பூல்  ,ப்ரதக்ஷிணா ,பஹாட் பர்  சட்னா , அவைகளுடைய இலைகள் ,பழங்கள் ,பூக்கள் ,வலம் வருதல் 
आबोहवा जड़ीबूटियों से सुगन्धित वायु 
aabohava jadee bootiyon se sugandhit vaayu 
ஆபோஹவா ,ஜடீ பூடியான் சே சுகந்தித் ஹவா 
சீதோஷ்ண நிலை ,வேர் -மூலிகை களால் வரும் மண முள்ள காற்று 
सब स्वास्थ्य प्रद है;  sab swaasthyprad  hai;  sab  ஸ்வாஸ்த்ய ப் ரத்  ஹை .

எல்லாமே ஆரோக்கியம் தரக்கூடியவை.
इतना ही नहीं இதனா ஹீ நஹீ  இதுமட்டுமல்ல 

हर मंदिर के विशेष रूढ़िगत प्रसाद,
har mandir ke vishesh roodhigat prasaad 
ஹர்  மந்திர் கே விஷேஷ்  ரூடிகத் பிரசாத்  ஹை .
ஒவ்வொரு கோயிலுக்கும் விசேஷ பிரசாதம்  இருக்கிறது.

न आज कल का प्रसाद स्टाल 
na aajkal  kaa prasaad stall 
ந ஆஜ்கல் கே பிரசாத ஸ்டால் .
ताज़ी  अनुभव ,प्रेरणा उत्साह आदि ब्रह्मानंद के करीब  
tazee anubhav .prernaa ,utsaah aadi brahmaanand  ke kareeb 
புத்தம் புதிய உணர்வு ,தூண்டுதல் ,உற்சாஹம் முதலியவை  பிரமனந்தத்திற்கு அருகில் 

ले  जाता है. le jaataa hai .அழைத்துச் செல்கிறது.

Saturday, September 5, 2015

பார்த்திருக்கிறேன். देखा है

⚡एक ऐसा सच जो आपको आज तक नहीं बताया गया



இன்றுவரை   வெளிவராத 


உண்மைகள் 

 ????

⚡भारत में 3 लाख मस्जिदें हैं जो अन्य किसी देश में 


भी नहीं है ।



பாரதத்தில் மூன்று லக்ஷம் மசூதிகள் 


உள்ளன .  வேறு  எந்த நாட்டிலும் 


இல்லை .







வாஷிங்டன்னில்  24 சர்ச்சுகள் 


உள்ளன.

⚡वाशिंगटन में 24 चर्च हैं


லண்டனில் 71 சர்ச்சுகள் உள்ளன.

लन्दन में 71 चर्च


மேலும் இத்தாலியில் 68 சர்ச்சுகள் உள்ளன.


और इटली के मिलान शहर में 68 चर्च हैं


ஆனால் தில்லியில் மட்டும் 271 சர்ச்சுகள் உள்ளன.



⚡जबकि अकेले दिल्ली में 271 चर्च हैं ।


பாரதம் மதசார்பற்ற நாடு.


⚡लेकिन हिन्दू फिर भी सांप्रदायिक है ?

இதற்கு மதசாற்பற்றவர்களின் பதில் என்ன ?




⚡है किसी सेकुलर के पास इसका जवाब ???

நான் இதற்கு எதிர்ப்பு தெரிவிக்கும் ஐ.எஸ்.ஐ .ஐயை  எதிர்க்கும்  எந்த முஸ்லிம் எதிர்ப்பையும் பார்க்கவில்லை.

मैं ने isi का विरोध करते 



किसी मुस्लिम को नहीं देखा है.


ஆனால் ஆர் .எஸ்.எஸ்.,ஐ எதிர்ப்பு தெரிவிக்கும்  லக்ஷக்கணக்கில்  ஹிந்துக்களைப் பார்த்திருக்கிறேன்.

पर rss का विरोध करते हुए लाखो हिन्दू देखे है


நான் எந்த முஸ்லீமையும் ஹோலி தீபாவளியில் பார்ட்டி கொடுத்துப் பார்த்ததில்லை.

मेने किसी मुस्लिम




 को होली दीवाली की पार्टी देते नहीं देखा है





पर हिन्दुओ को इफ्तार पार्टी देते देखा है

ஆனால் ஹிந்துக்களை இப்தார் 


பார்ட்டியில்  இருப்பதைப் 


 பார்த்துள்ளேன்.









 


मेने कश्मीर में भारत के झंडे जलते देखे है

நான் காஷ்மீரில் பாரதக் கொடி 

 எரிவதைப் பார்த்திருக்கிறேன்.


 
पर कभी पाकिस्तान का झंडा जलाते हुए मुसलमान


ஆனால் காஷ்மீரில் பாகிஸ்தான் 


கொடி  எரிப்பதை முஸ்லீம்களை 

பார்த்ததில்லை.



 नहीं देखा है


मेने हिन्दुओ को टोपी पहने मजारो पर जाते देखा है 


நான் ஹிந்துக்களை தொப்பி அணிந்து 


மஜாராவில் பங்கெடுப்பதைப் 


பார்த்திருக்கிறேன்.



पर किसी मुस्लिम को टिका लगाते मंदिर जाते नहीं 



देखा है

ஆனால் எந்த முஸ்லீம் களையும் 


பொட்டுவைத்தோ  நாமம் பட்டை 


போட்டோ  கோயில் சென்றதைப் 


பார்த்ததில்லை.



 
मेने मिडिया को विदेशो के गुण गाते देखा है 




மீடியாக்கள் வெளிநாட்டினர் புகழ் பாட

பார்த்திருக்கிறேன்.



पर भारत के संस्कार के प्रचार करते नहीं देखा है


 
👿👿
कुछ हिन्दू तो इसे शेयर भी नहीं करेंगे।














Friday, September 4, 2015

DR.RADHAKRISHNAN


महान शिक्षाविद डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन – 


மிக  உயர்ந்த கல்வி மேதை 
                அச்சீ கபர்  என்ற ஹிந்தி இடுகையின்   தமிழாக்கம்.



 உயர்ந்த  கல்வி மேதை  ,உயர்ந்த  தத்துவ மேதை ,பெரிய பேச்சாளர் ,ஹிந்து மத சிந்தனையாளர் ,இந்திய பண்பாட்டின் ஞானி  டாக்டர்  சர்வபள்ளி ராதா கிருஷ்ணன்   அவர்கள் .பாரதத்தை கல்வியின் புதிய முன்னேற்றத்திற்கு  எடுத்துச் சென்றவர். பிறந்த நாள் செப்டம்பர் ஐந்து. இன்று ஆசிரியர்  தினமாக கொண்டாடப்படுகிறது.
குழந்தைப் பருவத்திலிருந்தே புத்தகங்கள் படிப்பதில் ஆர்வமுள்ளவர்.
தமிழ்நாட்டின்  திருத்தணி கிராமத்தில் 5ந்தேதி  செப்டம்பர்  மாதம் 1888ஆம் ஆண்டு  பிறந்தார். திருத்தணி திருப்பதி போன்ற  புனித ஸ்தலங்களில் அவர் இளமைக்காலம் கழிந்தது. அவர் ஆரம்ப படிப்பு  கல்லூரி படிப்பு கிறிஸ்தவ அமைப்பின் பள்ளியிலும் கல்லூரியிலும் முடிந்ந்தது. பள்ளிப்பருவத்திலேயே பைபிள் நன்கு படித்து பரிசும் வாங்கியுள்ளார்.விவேகானந்தர் ,வீரசாவர்கர் நூல்களிலும் தேர்ச்சி பெற்றார்.அவரின் கல்வித்திறமையால்  பள்ளியிலும்  கல்லூரியிலும்  மாணவர் உதவித்தொகை பெற்றார்.1902இல் மெட்ரிக் தேர்ச்சி பெற்று 1916இல் தத்துவ இயலில் முதுகலைப்பட்டம் பெற்று தத்துவப் பேராசிரியர் ஆனார்.
சர்வபள்ளி என்ற கிராமத்தில் அவர்கள் முன்னோர்கள் வாழ்ந்ததால்  அவர் பெயருக்கு  முன்னால்  சர்வபள்ளி என்ற பெயரும் சேர்ந்து விட்டது. வையகம்  முழுவதும்  ஒரே அங்கமாகக் கருதி கல்வி  தர வேண்டும் என்று கருதினார்.
மனித மூளையை அப்பொழுதுதான்  சரியாகப் பயன்படுத்த முடியும் என்றார்.
தன்  கட்டுரை மற்றும் சொற்பொழிவு மூலம் இந்திய தத்துவ இயலை உலகம் முழுவதும்  பரவச் செய்தார். எளிய வினோத முறையில் தத்துவம் போன்ற கடின பாடங்களையும் எளிதாகக் கற்பித்தார்.ஆன்மீக வாழ்க்கையே இந்தியாவின் மகிமை என்று விளக்கினார்.
 வாழ்ந்த காலத்திலும் மரணத்திற்குப் பிறகும்  அவர் பெற்ற கௌரவங்கள் :--
1931==நைட் பேச்சலர் ,சர்  விடுதலைக்குப் பிறகு  சர் பட்டம் துறந்தார்.
1938 ==பெல்லோ ஆப் தி பிரிட்டிஷ் கௌன்சில் 
1954 ==பாரத்  ரத்தினம் .
19 54   ==ஜெர்மன்  ஆர்டர்  பவர் லே மெரிட் ஆர்ட்ஸ் அண்ட் சயின்ஸ் .
1961==பீஸ் ப்ரைஸ்  ஆப் தி ஜெர்மன் புக் ட்ரேட் .
1962  முதல் அவர் பிறந்தநாள் ஆசிரியர் தினமாக கொண்டாடப்பட்டு வருகிறது.
1963: ब्रिटिश आर्डर ऑफ़ मेरिट .பிரிட்டிஷ் ஆர்டர்  ஆப் தி மெரிட்.
1968: साहित्य अकादमी फ़ेलोशिप , சாஹித்ய அகாடமி பெல்லோஷிப்  
1975: टेम्प्लेटों प्राइज ( मरणोपरांत )  டேம்ப்லேடோ ப்ரைஸ்  (மரணத்திற்குப் பிறகு.
1989: ஆக்ஸ்போர்ட் பல்கலைகழகம் மாணவர்களுக்கு ராதாகிருஷ்ணன் அவர்கள்  பெயரால்   மாணவர் உதவித்துகை  வழங்கிவருகிறது.


महान शिक्षाविद, महान दार्शनिक, महान वक्ता, हिन्दू विचारक एवं भारतीय संस्कृति के ज्ञानी डॉक्टरसर्वपल्ली राधाकृष्णन विलक्षण प्रतिभा के धनी थे। भारत को शिक्षा के क्षेत्र में नई ऊँचाइयों पर ले जाने वाले महान शिक्षक डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन का जन्मदिन प्रतिवर्ष 5 सितंबर को शिक्षकों के सम्मान के रूप में सम्पूर्ण भारत में मनाया जाता है।
Dr. Sarvepalli RadhaKrishnan Quotes in Hindi
डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन
बचपन से किताबें पढने के शौकीन राधाकृष्णन का जन्म तमिलनाडु के तिरुतनी गॉव में 5 सितंबर 1888 को हुआ था। साधारण परिवार में जन्में राधाकृष्णन का बचपन तिरूतनी एवं तिरूपति जैसे धार्मिक स्थलों पर बीता । वह शुरू से ही पढाई-लिखाई में काफी रूचि रखते थे, उनकी प्राम्भिक शिक्षा क्रिश्चियन मिशनरी संस्था लुथर्न मिशन स्कूल में हुई और आगे की पढाई मद्रास क्रिश्चियन कॉलेज में पूरी हुई। स्कूल के दिनों में ही डॉक्टर राधाकृष्णन ने बाइबिल के महत्त्वपूर्ण अंश कंठस्थ कर लिए थे , जिसके लिए उन्हें विशिष्ट योग्यता का सम्मान दिया गया था। कम उम्र में ही आपने स्वामी विवेकानंद और वीर सावरकर को पढा तथा उनके विचारों को आत्मसात भी किया। आपने 1902 में मैट्रिक स्तर की परीक्षा प्रथम श्रेणी में उत्तीर्ण की और छात्रवृत्ति भी प्राप्त की । क्रिश्चियन कॉलेज, मद्रास ने भी उनकी विशेष योग्यता के कारण छात्रवृत्ति प्रदान की। डॉ राधाकृष्णन ने 1916 में दर्शन शास्त्र में एम.ए. किया और मद्रास रेजीडेंसी कॉलेज में इसी विषय के सहायक प्राध्यापक का पद संभाला।
डॉ. राधाकृष्णन के नाम में पहले सर्वपल्ली का सम्बोधन उन्हे विरासत में मिला था। राधाकृष्णन के पूर्वज ‘सर्वपल्ली’ नामक गॉव में रहते थे और 18वीं शताब्दी के मध्य में वे तिरूतनी गॉव में बस गये। लेकिन उनके पूर्वज चाहते थे कि, उनके नाम के साथ उनके जन्मस्थल के गॉव का बोध भी सदैव रहना चाहिए। इसी कारण सभी परिजन अपने नाम के पूर्व ‘सर्वपल्ली’ धारण करने लगे थे।
डॉक्टर राधाकृष्णन पूरी दुनिया को ही एक विद्यालय के रूप में देखते थे । उनका विचार था कि शिक्षा के द्वारा ही मानव मस्तिष्क का सही उपयोग किया जा सकता है। अत: विश्व को एक ही इकाई मानकर शिक्षा का प्रबंधन करना चाहिए।
अपने लेखों और भाषणों के माध्यम से भारतीय दर्शन शास्त्र कों विश्व के समक्ष रखने में डॉ. राधाकृष्णन का महत्त्वपूर्ण योगदान है। सारे विश्व में उनके लेखों की प्रशंसा की गई। किसी भी बात को सरल और वोइनोदपूर्ण तरीके से कहने में उन्हें महारथ हांसिल था , यही करना है की फिलोसोफी जैसे कठिन विषय को भी वो रोंचक बना देते थे। वह नैतिकता व आध्यात्म पर विशेष जोर देते थे; उनका कहना था कि, “आध्यात्मक जीवन भारत की प्रतिभा है।“
1915 में डॉ.राधाकृष्णन की मुलाकात महात्मा गाँधी जी से हुई। उनके विचारों से प्रभावित होकर राधाकृष्णन ने राष्ट्रीय आन्दोलन के समर्थन में अनेक लेख लिखे। 1918 में मैसूर में वे रवीन्द्रनाथ टैगोर से मिले । टैगोर ने उन्हें बहुत प्रभावित किया , यही कारण था कि उनके विचारों की अभिव्यक्ति हेतु डॉक्टर राधाकृष्णन ने 1918 में ‘रवीन्द्रनाथ टैगोर का दर्शन’ शीर्षक से एक पुस्तक प्रकाशित की। वे किताबों को बहुत अधिक महत्त्व देते थे, उनका मानना था कि, “पुस्तकें वो साधन हैं जिनके माध्यम से हम विभिन्न संस्कृतियों के बीच पुल का निर्माण कर सकते हैं।“ उनकी लिखी किताब ‘द रीन आफ रिलीजन इन कंटेंपॅररी फिलॉस्फी’ से उन्हें अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान मिली ।
गुरु और शिष्य की अनूठी परंपरा के प्रवर्तक डॉ.राधाकृष्णन अपने विद्यार्थियों का स्वागत हाँथ मिलाकर करते थे। मैसूर से कोलकता आते वक्त मैसूर स्टेशन डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की जय-जयकार से गूँज उठा था। ये वो पल था जहाँ हर किसी की आँखे उनकी विदाई पर नम थीं। उनके व्यक्तित्व का प्रभाव केवल छात्राओं पर ही नही वरन देश-विदेश के अनेक प्रबुद्ध लोगों पर भी पङा। रूसी नेता स्टालिन के ह्रदय में फिलॉफ्सर राजदूत डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन के प्रति बहुत सम्मान था। राष्ट्रपति के पद पर रहते हुए डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन अनेक देशों की यात्रा किये। हर जगह उनका स्वागत अत्यधिक सम्मान एवं आदर से किया गया। अमेरिका के व्हाईट हाउस में अतिथी के रूप में हेलिकॉप्टर से पहुँचने वाले वे विश्व के पहले व्यक्ति थे।
डॉ. राधाकृष्णन ने कई विश्वविद्यालयों को शिक्षा का केंद्र बनाने में अपना योगदान दिया। वे देश की तीन प्रमुख यूनिवर्सिटीज में कार्यरत रहे :
  • 1931 -1936 :वाइस चांसलर , आंध्र प्रदेश विश्वविद्यालय
  • 1939 -1948 : चांसलर , बनारस के हिन्दू विश्वविद्यालय
  • 1953 – 1962 :चांसलर ,दिल्ली विश्वविद्यालय
डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की प्रतिभा का ही असर था कि, उन्हें स्वतंत्रता के बाद संविधान निर्मात्री सभा का सदस्य बनाया गया। 1952 में जवाहरलाल नेहरू के आग्रह पर राधाकृष्णन सोवियत संघ के विशिष्ट राजदूत बने और इसी साल वे उपराष्ट्रपति के पद के लिये निर्वाचित हुए।
1954 में उन्हें भारत के सबसे बड़े नागरिक सम्मान भारत रत्न से सम्मानित किया गया।
1962 में राजेन्द्र प्रसाद का कार्यकाल समाप्त होने के बाद राधाकृष्णन ने राष्ट्रपति का पद संभाला। 13 मई, 1962 को 31 तोपों की सलामी के साथ ही डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की राष्ट्रपति के पद पर ताजपोशी हुई।
प्रसिद्द दार्शनिक बर्टेड रसेल ने डॉ राधाकृष्णन के राष्ट्रपति बनने पर कहा था – “यह विश्व के दर्शन शास्त्र का सम्मान है कि महान भारतीय गणराज्य ने डॉक्टर सर्वपल्ली राधाकृष्णन को राष्ट्रपति के रूप में चुना और एक दार्शनिक होने के नाते मैं विशेषत: खुश हूँ। प्लेटो ने कहा था कि दार्शनिकों को राजा होना चाहिए और महान भारतीय गणराज्य ने एक दार्शनिक को राष्ट्रपति बनाकर प्लेटो को सच्ची श्रृद्धांजलि अर्पित की है।“
बच्चों को भी इस महान शिक्षक से विशेष लगाव था , यही कारण था कि उनके राष्ट्रपति बनने के कुछ समय बाद विद्यार्थियों का एक दल उनके पास पहुंचा और उनसे आग्रह किया कि वे ५ सितम्बर उनके जन्मदिन को टीचर्स डे यानि शिक्षक दिवस के रूप में मनाना चाहते हैं। डॉक्टर राधाकृष्णन इस बात से अभिभूत हो गए और कहा, ‘मेरा जन्मदिन ‘शिक्षक दिवस’ के रूप में मनाने के आपके निश्चय से मैं स्वयं को गौरवान्वित अनुभव करूँगा।’  तभी से 5 सितंबर देश भर में शिक्षक दिवस या Teachers Day के रूप में मनाया जा रहा है।
डॉ. राधाकृष्णन 1962 से 1967 तक भारत के राष्ट्रपति रहे , और कार्यकाल पूरा होने के बाद मद्रास चले गए। वहाँ उन्होंने पूर्ण अवकाशकालीन जीवन व्यतीत किया। उनका पहनावा सरल और परम्परागत था , वे अक्सर सफ़ेद कपडे पहनते थे और दक्षिण भारतीय पगड़ी का प्रयोग करते थे। इस तरह उन्होंने भारतीय परिधानों को भी पूरी दुनिया में पहचान दिलाई। डॉ राधाकृष्णन की प्रतिभा का लोहा सिर्फ देश में नहीं विदेशों में भी माना जाता था। विभिन्न विषयों पर विदेशों में दिए गए उनके लेक्चर्स की हर जगह प्रशंशा होती थी ।
अपने जीवन काल और मरणोपरांत भी उन्हें बहुत से सम्मानो से नवाजा गया , आइये उनपे एक नज़र डालते हैं :
1931: नाइट बैचलर / सर की उपाधि , आजादी के बाद उन्होंने इसे लौटा दिया
1938: फेलो ऑफ़ दी ब्रिटिश एकेडमी .
1954: भारत रत्न
1954: जर्मन “आर्डर पौर ले मेरिट फॉर आर्ट्स एंड साइंस ”
1961: पीस प्राइज ऑफ़ थे जर्मन बुक ट्रेड .
1962: उनका जन्मदिन ५ सितम्बर शिक्षक दिवस में मानाने की शुरुआत
1963: ब्रिटिश आर्डर ऑफ़ मेरिट .
1968: साहित्य अकादमी फ़ेलोशिप , डॉ राधाकृष्णन इसे पाने वाले पहले व्यक्ति थे
1975: टेम्प्लेटों प्राइज ( मरणोपरांत )
1989: ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी द्वारा उनके नाम से Scholarship की शुरुआत
“मौत कभी अंत या बाधा नहीं है बल्कि अधिक से अधिक नए कदमो की शुरुआत है।” ऐसे सकारात्मक विचारों को जीवन में अपनाने वाले असीम प्रतिभा का धनी सर्वपल्ली डॉ. राधाकृष्णन लम्बी बीमारी के बाद 17 अप्रैल, 1975 को प्रातःकाल इहलोक लोक छोङकर परलोक सिधार गये। देश के लिए यह अपूर्णीय क्षति थी। परंतु अपने समय के महान दार्शनिक तथा शिक्षाविद् के रूप में वे आज भी अमर हैं। शिक्षा को मानव व समाज का सबसे बड़ा आधार मानने वाले डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन का शैक्षिक जगत में अविस्मरणीय व अतुलनीय योगदान सदैव अविस्मरणीय रहेगा। उनके अमुल्य विचार के साथ अपनी कलम को यहीं विराम देते हैं। सर्वपल्ली डॉ. राधाकृष्णन का कहना है कि,
“जीवन का सबसे बड़ा उपहार एक उच्च जीवन का सपना है”