Saturday, July 25, 2015

आगे हैं देश कैसे ?ईश्वर ही जानते हैं ;

भारत मेरा महान
विश्व वन्द्य  नेता हैं यहां ;
विश्व अनुकरणीय धार्मिक है यहाँ ;
अपूर्व अनुपम हैं यहाँ  की शिल्पकलाएं ;
हर  बात को यहां हैं सिखाते धर्म के आड़ में ;
नाखून मत काटो ,भगवान नाराज होंगे ;
स्नान करके खाओ ,ईश्वर नाराज होंगे;
हर बात में भय दिखाते भले ही वह हो वैज्ञानिक ;
तनाव  का दूर करने ध्यान में लग जाओ ;
नौकरी मिलना है ,दुःख दूर होना है
परीक्षा में अधिक अंक मिलना है
दूकान खोलना हैं
नए कपडे पहनना है
नयी कार ,नयी घड़ी जो भी लो
तुरंत करो पूजा अर्चना ;
हर बात में ईश्वर की चाहिए कृपा ;
पर बलात्कार में ,भ्र्ष्टाचार में ,रिश्वत में ;
आगे हैं देश कैसे ?ईश्वर  ही जानते हैं ;