Thursday, November 19, 2015

नालडियार

காலை ணக்கம்.
அறுசுவையுண்டிஅமர்ந்தில்லாள் ஊட்ட மதுசிகை நீக்கியுண்டாரும்..
வறிஞராய்ச்
சென்றிரப்பர்
ஓரிடத்துக் கூழ் எனின் செல்வம
ஒன்றுண்டாக வைக்கப் பாற்றன்று.
நாலடியார்.
नालडियार।
चोपाई  . चार सौ पद्य।
नीति ग्रंथों में  तिरुक्कुरल  के बाद तमिल में
नामी दूसरा ग्रंथ है।
तिरुक्कुरल के समान इस ग्रंथ के तीन भाग हैं
1.धर्म 2.अर्थ3.काम।
लक्ष्मी चंचला ।
षडरस भोजन अति प्यार से अर्द्धांगिनी खिलाती।
अमीर अति आनंद से खाता।
यह अस्थाई अमीरी एक दिन इतनी कम होगी ,
उस को भीख माँग रूखा.सूखा खाना पडेगा।
तमिल नीति ग्रंथ  नालडियार .