Monday, October 5, 2015

तमिल साहित्य

मनष्य जीवन में कुछ सुधार करना है या लाना है तो
कविता या लेख द्वारा ही संभव है।
साहित्य मानव मन में बडा परिवर्तन लाने में
समर्थक है।
एक शब्द या एक लोकोकति में
इतनी शकति है आलसी या सुप्त मन में जोश उत्पन्न
करने में सार्थक और समर्थक होता है।
बरगद और कबूल दाँत को टिकाऊ बनाता है।
आलुम वेलुम पल्लुक्कुरुति