Friday, October 23, 2015

तिरुक्कुरल

धर्म
इस संसार में धर्म ही विशेषतम चीज है।
सांसारिक कर्मों में अति हितकारी  धर्म ही है।
अधर्म से बढकर अहितकारी कर्म और कोई नहीं है।

Post a Comment