Tuesday, March 19, 2013

हमारे देश का कलंक है

भारत में बलात्कार बढ़ रहा है. बलात्कारियों की उम्र  अठारह साल निर्णय हुआ है;
अपराध करनेवाले क्या कम उम्र में कर सकते है. सोलह साल का लड़का पिता बन सकता है कि नहीं।।
लडकी माता बन सकती कि नहीं .
अपराध देखना है या अपराधी की उम्र. नौवीं कक्षा का छात्र वर्ग में अध्यापिका की हत्या की है;
मंत्री या एम.एल.ए पुलिस को मारता है. ये सब अपराध नहीं है. क्योंकि अगले चुनाव में वह जीतता है मतलब जनता उनको अपना अमूल्य वोट देती है;
अब विदेशी यात्रियों से बलात्कार; सबको दिन-बा-दिन भय के बदले प्रोत्साहन मिलता है या साहस;
यह तो हमारे देश का कलंक है;