Sunday, May 4, 2014

चार रत्नों की कड़ी.-chain of four gems -நான்மணிக்கடிகை 24

भविष्य में होनेवाली घटनाएँ ,न जाननेवाली स्त्रियाँ रोग जैसी है;
प्यार भरे सज्जन जग के आभूषण जैसे हैं.
अल्प बुद्धिवाले उगते पौधे को नष्ट करनेवाले घास जैसे हैं.
निर्दयी लोग पाषाण दिलवाले हैं.

the women who dose not know the future incidents she is like a disease.
lovely gentlemen are  like a ornamant in the world.
a little knowledge persons are like a grass which spoils the growing crops.
a merciless person's heart is like a stone.

பிணியன்னர்  பின்நோக்காப் பெண்டிருலகிற்
கனியன்ன ரன்புடைமாக்கள்--பிணிபயிரின்
புல்லன்னர் புல்லறிவி நாடவர்--கல்லன்னர்
வல்லென்ற நெஞ்சத் தவர்.

25.धार्मिक लोगों से बढ़कर ऊंचे कुल में जन्मे लोग और कोई नहीं है;
माँ से बढ़कर ऊँचे नाते -रिश्ते और कोई नहीं है;
संपत्ति-समृद्धि से  बढ़कर शोभनीय वस्तु और कोई नहीं है.
शोध कर देखने पर जवानी की तुलना में और कोई पर्व नहीं है.

no one is  in the world's great family  in which   a religious person born.
no one is  not a great relation to us  like a mother.
except wealth nothing is beautiful thing in this world.
youth alone is great when comparing to other ages.