Thursday, May 28, 2015

तिरुवाचकम्

                                                       

                                                             तिरुवाचकम् 

नमः शिवाय की जय ;उनके  श्री चरण की जय ;
நமச்சிவாய  வாழ்க  நாதன் தாள்  வாழ்க

इमैप्पोलुतुम  एन्नेंजिल नींगतान  ताळ  वाळ क-- இமைப்பொழுதும் என்நெஞ்சில் நீங்காதான் தாள்  வாழ்க 
 पलक मारने के समय में भी मेरे ह्रदय से नहटनेवालश्रीचरण   की जय ;

कोकलि  यांड  गुरुमनिथन ताळ   वाळ क--கோழி யாண்ட குருமணி தன் தாள் வாழ்க 
श्री पेरुन्दुरै में पधारकर  मुझे अपने अधीन किये गुरुवर  के श्री चरण की जय ;

आगमकमाकी    निन  रण णीप्पान   ताळ  वाळ क।--  ஆகம மாகி நி றண்ணிப்பான் தாள் வாழ்க 
आगम रूप  में सुख देनेवाले ईश्वर के श्रीचरण की जय. 

एकन  अनेकन  इरैवन  अड़ी  वाळ क  --ஏகன் அநேகன் இறைவன் அடி  வாழ்க 
एक और  अनेक रूपों के ईश्वर के गुरुचरण की जय।