Thursday, May 28, 2015

tiruvaachakam -திருவாசகம் 6--10 तिरुवाचकम्

திருவாசகம் 6--10  तिरुवाचकम् 

वेगम  केडुत्ताण्ड  वेंदनड़ी  वेल्क -வேகம் கெடுத்தாண்ட வேந்தனடி   வெல்க .

----मानसिक तेज़ गति रोककर मुझे दास बनाये ईश्वर के चरोन्नति हो जाएँ। 


पिरप्परुक्कुम   पिञञगनरन  पेयकललकल  वेल्क --

பிறப்பறுக்கும்  பிஞஞகன்ரன் பெய்கழல்கள் வெல்க 
पुनः जन्म को रोकनेवाले ईश्वर जो चन्द्र ,गंगा ,साँप  आदि  को सिर  पर धारण करनेवाले शिव के श्रीचरण की जय। 


पुरत्तारकुच चेयनरों पूंगळऴ  कळ   वेलक ---புறத்தார்க்குச் சேயோன்றன்  பூங்குழல்கள் வெல்க .


अपने को निवेदन न करनेवालों से दूर रहनेवाले कमल चरणोंवाले की जय हो.

करंकुविवार उनमकीलुंग  कोन कळल कल वेलक -கரங்குவிவார் உண்மைகிழுங்  கோன்கழல்கள் வெல்க 


-हाथ जोड़कर प्रार्थना करनेवाले ईश्वरके श्री चरण की जय। 

सिरंकुविवार ओं गुविककुञ्च सीरोन  कलल कल  वेलक-----சிரங்குவிவார்  ஒங்குவிக்குஞ்  சீரோன் கழல் வெல்க .
सर पर हाथ जोड़कर रख के प्रार्थना करनेवालों के उद्धार करनेवाले ईश्वर के श्री चरण की जय।