Wednesday, April 30, 2014

चार रत्नों की कड़ी.--२३,२४,२५ chain of four gems23-25

महावत मारने पर भी हाथी उसको चाहेगा.

माँ के मार -गाली  सहकर भी बच्चा माँ को चाहेगा.(माँ से लगा रहेगा.)
शत्रुता मोल लेने पर भी मित्र न तंग करेगा.
जिनमें दुश्मनी है ,वे कभी मिलकर न रह सकेंगे.

Although  mahaut  beats  an  elephant ,the elephant loves him.

 (and it will obey to him.)
although mother beats and scold a child ,the child  will love her.
  although a friend  made enemy to our friends ,a real friend never will do haarm to his friends.
never become  an enemy as a friend to live together.

24.
दोस्त का खिला चेहरा करेगा कल्याण. 
दरबार का बड़प्पन  स्नेह -मिलन से  मालूम होगा. 
तेज़ चलनेवाले रथ का यश सारथी  से होगा. 
एक प्रसिद्ध  नेता के कारण एक शहर क भला होगा. 

one friends laughing face  do good to his friends.
one court or meeting place's greatness 
we will know the affectionate  get together.
one city or village  will depend  on its famous leader.

25.
जिससे डरना नहीं चाहिये ,उससे  मत डरो. 
जिससे डरना  चाहिये ,उससे डरो। 
जितनी  हो सके   उतनी मदद करने से मत चूको. 
जिओ तटस्थ  यों  सोचकर कि  धन -दौलत मिलेगा. 
मित्र के हाथ  सौंपे कर्म  पर  संदेह  मत  करो. 

don't be fear ,which is unfit  to fear.
fear to those things which is necessary to fear.
how much is  possible ,you should to  help others.
stand neutral  and beleive the wealth will come.
 don't show doubt  which work you have given to your friend.