Sunday, November 30, 2014

நதியின் குரல்

December 20, 2011 at 1:13pm


मैं  हूँ  एक  जल कथा,

कुदरत की लिखी.

मिट्टी  के मानसिक

स्वर  के

 द्रव-अंकित.

भूगोल के नवीन युगों को  पारकर
खड़े रहनेवाली   जग  की जीवन रेखा.

बाह्य -चलन  का  उज्जवल निधि 
उठने तड़पने  की मेरी लहरें
ठण्ड ज्वालायें.
जब भूमि प्रसव देने
गर्भ -धारण करती है,
तब मैं जीवाणुओं के लिए
 माता  के   दूध  स्त्रोत .



जो कुछ मैं अपने प्रपंच भाषा में  बोला ,
आप न समझ पाए
इसलिए मैं उन्हें स्थानीय बोली में
कहने आयी हूँ.
जीव की नाड़ियों-सा चलने तड़पकर
वन-नदी -सी जीवन बिता थी.
मेरे पहरे के लिए दो किनारे बनवाये .
मुझे  घमंड  हुआ ,गौरव मिला है. पर

मुझे इत्र-तत्र बाँध  बनवाकर ,
कारावास में डाल दिया है.
मेरी  सारी  दृष्टियाँ ,निचली  सतह  की ओर
ऊपरी सतह से आतंकित मैं  बनती हूँ  जलप्रपात.
बहनेवाले मार्ग भर  हरा शय्या  फैलाता हूँ.
आपके    पैरों  को गले लगाने
पुष्पों   का पुरस्कार ढोकर आती हूँ.

आप तो  काँटों को ही ,मेरे  चेहरे पर फेंकते हैं.
मैं तो आती हूँ आपकी गन्दगी  मिटाने ,
आप तो अपने मल-मूत्र  मैलों से  गन्दगी कर चुके हैं.
मैं अपने  सहोदरों  से अपनी राम कहानी सुनाकर
रोती  हूँ तो मेरे आंसू  ही समुद्र में भरकर खारा बनता है.

 समुद्र संगम के संकल्प  में
समरस को मानती नहीं हूँ .
अपने लक्ष्यों को गिरवी रखकर
दमन प्रणाली के लिए नत्मस्तक होती नहीं.
विलम्ब हो सकता है, लेकिन छूट नहीं मिलेगी 

हमें  सूरज का ताप  जलाता है.

मेघों के पंख  बांधकर
ऊपर उड़कर  दुबारा वर्षा की बूंदों के रूप में
जन्म लेते हैं हम.
मैं अपने क्रोध दिखाने  समय-समय पर उमड़ पड़ती हूँ.
आप तो न्याय को मिटा देते हैं.
मैं तो जमीन के साथ जमीन बनकर
घुटने के बल  चलकर  आपसे  कुछ माँगे  रखती हूँ;
is जल की मांगें ठुकरायेंगे तो

मुझे  एक दिन आग की ज्वाला बनकर सीधी खडी होनी पड़ेगी.
இயற்கை எழுதிய
தண்ணீர்க் கவிதை நான்.
மண்ணின் மனக்குரலின்
திரவப் பதிவு.

मैं  हूँ  एक  जल कथा,

कुदरत की लिखी.

मिट्टी  के मानसिक

स्वर  के

 द्रव-अंकित.



புவிக்கோளத்தின் புதுமை
யுகங்களைக் கடந்து நிற்கும்
அகிலத்தின் ஆயுள் ரேகை.
भूगोल के नवीन युगों को  पारकर
खड़े रहनेवाली   जग  की जीवन रेखा.

வெளியில் மிதக்கும்
வெளிச்சப் புதையல்.
बाह्य -चलन  का  उज्जवल निधि .

எழுந்திடத் துடிக்கும் என் அலைகள்,
குளிர் ஜுவாலைகள்.
उठने तड़पने  की मेरी लहरें
ठण्ड ज्वालायें.

உயிர்களைப் பிரசவித்திட
மண் மங்கை கருவுற்ற போது
நான் உயிரணுக்களுக்காக
ஊறிவந்த தாய்ப்பால்.

जब भूमि प्रसव देने
गर्भ -धारण करती है,
तब मैं जीवाणुओं के लिए
 माता  के   दूध  स्त्रोत .


நான்
பிரபஞ்ச மொழியில் பேசியதெல்லாம்
புரியாமல் போனதால்
உங்கள்
உள்ளூர் மொழியில்
உரைத்திட வந்தேன்...

जो कुछ मैं अपने प्रपंच भाषा में  बोला ,
आप न समझ पाए
इसलिए मैं उन्हें स्थानीय बोली में
कहने आयी हूँ.

ஜீவ நாடியாய் செல்லத் துடித்து
கட்டாறாகக் காலம் கழித்திருந்தேன்.
जीव की नाड़ियों-सा चलने तड़पकर
वन-नदी -सी जीवन बिता थी.

கரைகள் இரண்டைக்
காவலுக்கு அனுப்பினீர்கள்.
கௌரவம் வந்ததாய்க் கர்வப் பட்டால்..
என்னை ஆங்காங்கே
அணைச் சிறைகளுக்குள்
அடைத்து வைக்கிறீர்கள்.
मेरे पहरे के लिए दो किनारे बनवाये .
मुझे  घमंड  हुआ ,गौरव मिला है. पर

मुझे इत्र-तत्र बाँध  बनवाकर ,
कारावास में डाल दिया है.



என் பார்வை முழுதும்
பள்ளங்களையே பார்த்திருக்க

மேடுகளைக் கண்டு
மிரண்டு போகிறேன்.
அருவியாய்ப் பாய்ந்து
அவ்வப்போது குதிக்கிறேன்.

मेरी  सारी  दृष्टियाँ ,निचली  सतह  की ओर
ऊपरी सतह से आतंकित मैं  बनती हूँ  जलप्रपात.



வரும் வழிதோரும்
பச்சைக் கம்பளப்பாய் விரிக்கின்றேன்.

बहनेवाले मार्ग भर  हरा शय्या  फैलाता हूँ.

உங்கள் கால்களைத் தழுவ
பூக்களைப் பரிசாகச்
சுமந்து வருகின்றேன்.
आपके    पैरों  को गले लगाने
पुष्पों   का पुरस्कार ढोकर आती हूँ.

நீங்களோ முட்களையே
முகத்தில் வீசி எறிகின்றீர்கள்
உங்கள் அழுக்குகளை
அகற்றிட வந்த என்னை
அசிங்கங்களால் அழுக்காக்கி விட்டீர்கள்
आप तो  काँटों को ही ,मेरे  चेहरे पर फेंकते हैं.
मैं तो आती हूँ आपकी गन्दगी  मिटाने ,
आप तो अपने मल-मूत्र  मैलों से  गन्दगी कर चुके हैं.

என் உடன்பிறப்புகளின் சந்திப்புகளில்
பாதையில் நேர்ந்த
துயரங்களைச் சொல்லி
தேம்பி அழுவதால்தான்
கடல் நீர்
கண்ணீரால் கரித்து
உப்பு நீராய் உவர்த்துப் போனது.
मैं अपने  सहोदरों  से अपनी राम कहानी सुनाकर
रोती  हूँ तो मेरे आंसू  ही समुद्र में भरकर खारा बनता है.


சமுத்திர சங்கமம் என்னும் சங்கற்பத்தில்
சமரசங்களுக்கு சம்மதிப்பதில்லை.
இலட்சியங்களை அடகு வைத்துவிட்டு
அடக்குமுறைகளுக்கு அடிபணிவதில்லை.
 समुद्र संगम के संकल्प  में
समरस को मानती नहीं हूँ .
अपने लक्ष्यों को गिरवी रखकर
दमन प्रणाली के लिए नत्मस्तक होती नहीं.

தாமதம் ஆகலாம்
ஆனால் தவிர்க்க முடியாது.
विलम्ब हो सकता है, लेकिन छूट नहीं मिलेगी .

எங்களைச்
சூரிய  நெருப்புச் சுட்டெரிக்கிறது.
हमें  सूरज का ताप  जलाता है.

மேகச் சிறகுகளைக் கட்டிக்கொண்டு
மேலே பறந்து
மழைத் துளியாக
மறுபடி உயிர்க்கிறோம்.
मेघों के पंख  बांधकर
ऊपर उड़कर  दुबारा वर्षा की बूंदों के रूप में
जन्म लेते हैं हम.

என் கோபத்தைக் காட்டிட
அவ்வப்போது குமுறியிருக்கிறேன்.
मैं अपने क्रोध दिखाने  समय-समय पर उमड़ पड़ती हूँ.

நீங்களோ...
நியாயங்களைத்
தள்ளுபடி செய்துவீட்டீர்கள்.
आप तो न्याय को मिटा देते हैं.

தரையோடு தரையாய்
தவழ்ந்து வந்து கேட்கும்
இந்தத் தண்ணீரின் கோரிக்கைகள்
நிராகரிக்கப்படும் என்றால்

நான்
ஒருநாள்
நெருப்பாகக் கொழுந்துவிட்டு
நிமிர வேண்டியிருக்கும் . . !

मैं तो जमीन के साथ जमीन बनकर
घुटने के बल  चलकर  आपसे  कुछ माँगे  रखती हूँ;
is जल की मांगें ठुकरायेंगे तो

मुझे  एक दिन आग की ज्वाला बनकर सीधी खडी होनी पड़ेगी.