Tuesday, August 14, 2012

मेंढक और कमल विवेक चिंतामणि


मेंढक  और कमल

विवेक चिंतामणि 

मेंढक नहीं जानता ,कमल का शहद.
पैदा  हुआ  है  वह भी कमल के तालाब में ही
पर भ्रमर जंगल के जानते है,कमल का मधु-रस.
आते हैं मधु चूसने.
वैसे ही शिक्षित घर में रहते ,
उनके ज्ञान नहीं जानते
शिक्षित ही शिक्षितों को पहचानकर,
करते हैं इज्जत.
தன்டாமரையினுட் பிறந்தும் அன்தேனுகரா மண்டூகம்,
வண்டோ காணத் திடையிருந்து வந்து கமல் மதுண்ணும்
பண்டே பழகிஇருந்தாலும்  அறியார் புல்லர் நல்லோரை,
கண்டே களித்தங் குறவாடி,தம்மிற் கலப்பர் கற்றோரே.
6.
वेद-मंत्र    पठन करनेवाले   विप्रों के लिए  एक बार वर्षा.
नीति-नियम पसंद राजा के लिए एक बार  वर्षा.
पति-व्रता नारी के लिए एक बार वर्षा.
यों ही एक मास . .में तीन बार होगी वर्षा .

வேதம் ஓதும்  வேதியர்க்கு ஓர் மழை
நீதி மன்னர் நெறியினுக்   கோர் மழை.
மாதர்  கற்புடை மங்கையர்க்கோர் மழை.
மாதம் மூன்று   மழை என
 பெய்யுமே