Tuesday, August 14, 2012

वर्षा की विशेषता---तिरुक्कुरल


वर्षा की विशेषता---तिरुक्कुरल 
வானின்று உலகம் வழங்கி வருதலால் 
தான் அமிழ்தம் என்றுணர பற்று.


बिन वर्षा के जीव-वनस्पति  संसार में जिन्दा रह नहीं सकते.
संत तिरुवल्लुवर ने वर्षा की विशेषता पर दस दोहे लिखे  है. उनका हिंदी भावार्थ देखिये:-----

वर्षा के कारण  ही संसार के जीव-वनस्पती आदि जी रहे हैं.अतः इस संसार के लिए वर्षा ही अमृत जैसा है.

௨.
वर्षा अनाज उगाता है पेट भरने,अतः वह भोजन दाता है. साथ ही प्यास भी बुझाता  है.

துப்பார்க்குத் துப்பாய துப்பாக்கித்  துப்பார்க்குத்
துப்பாய தூவும் மழை.

௩.
सागरों  से घेरे संसार में वर्षा नहीं होगी  तो संसार के जीवों की प्यास नहीं बुझेगी .

விண் இன்று பொய்ப்பின் விரிநீர் வியனுலகத்
துள் நின்று உடற்றும் பசி.

௪.
हल है.भूमि है.पर वर्षा नहीं होगी तो हल भूमि  का   क्या   प्रयोजन.?

ஏரின் உலா அர் உழவர்  புயலென்னும்  வாரி வளங்குன்றிக்  கால்.