Tuesday, August 14, 2012

प्रार्थना गीत. तिरुक्कुरल


प्रार्थना  गीत.   तिरुक्कुरल 
१.
अक्षरों का आरम्भ  "अ".आदि अक्षर.मूल स्वर.
.वैसे ही संसार  ईश्वर के आधार पर है.
அகர முதல எழுத்து எல்லாம் ஆதி பகவன் முதற்றே உலகு.
२.
विद्या अध्ययन  का फल ही ईश्वर  की प्रार्थना है.
शिक्षा  सीखने के बाद भी  ईश्वर की प्रार्थना न करें तो
उस शिक्षा से क्या प्रयोजन.?ज्ञान स्वरुप  ईश्वर की 
प्रार्थना  ही शिक्षितों के लिए फलप्रद है.

கற்றதனாலாய பயனென் கொல் வாலறிவன்  நற்றாள் தொழார் எனின்.

௩.
सुमन -सा  सब के मन में वास करनेवाले ईश्वर के शरणार्थी ही 
शाश्वत संतोष  प्राप्त कर सुखी जीवन बिता सकते हैं. 

மலர் மிசை ஏகினான் மாணடி சேர்ந்தார் 
நிலமிசை நீடு வாழ்வார்.
௪.
ईश्वर को प्रेम -द्वेष नहीं है.वे हैं सब के कृपालु.
ईश्वर पर विश्वास रखनेवाले ऊँचे चातित्रवान बनकर
संतापों को पारकर  सुखी जीवन पायेंगे 
வேண்டுதல் வேண்டாமை இலான் அடி சேர்ந்தார்க்கு  யாண்டும் இடும்பை இல.
5.
ईश्वर  को  पहचानकर  खूब   समझकर जो  
रहते हैं, उनको  कभी  दुःख नहीं होगा.
இருள் சேர் இரு வினையுஞ்  சேரா இறைவன் 
பொருள் சேர் புகழ்   புரிந்தார்      மாட்டு   
௬.
अभिलाषाओं  को  बढ़ानेवाले पंचेंद्रियों  को 
नियंत्रण   में रखकर  अनुशासन  प्राप्त करने ईश्वर की कामना करनेवाले 
स्थायी सुखी जीवन जीसकते हैं.
பொறிவாயில் ஐந்தவித்தான் போய் தீர் ஒழுக்க 
நெறி  நின்றார் நீடு வாழ்வார்.
7.
अनुपम ईश्वर के चरण स्पर्श न करनेवाले ,अपने दुखों से मुक्ति 
पा नहीं सकते.
தனக்கு உவமை இல்லாதான் தாள் சேர்ந்தார் கல்லால்,மனக்கவலை மாற்றல் அரிது.
௮.
धर्म सागर ईश्वर पर उम्मीद रखनेवाले ही भव सागर पार कर सकते है.
அறவாழி அந்தணன் தாள் சேர்ந்தார்க்கல்லால் 
பிற ஆழி நீந்தல் அரிது.
௯.
கோளில்  பொறியில்  குணமிலவே   என் குணத்தான்  தாளை வணங்காத்தலை.
पंचेंद्रिय काम नहीं करेंगे तो जीव जी नहीं सकते.
दिमाग काम नहीं करेगा.
ऐसे  ही  सर्वशक्तिमान ईश्वर पर प्रेम और विश्वास नहीं 
रखनेवाले श्रेष्ठ  नहीं बन सकते.

१०.
भगवान् के नैतिक सिद्धांतों का जीवन   में पालन  करनेवाले ही इस जन्म में भव सागर पार कर सकta hai.
பிறவிப்  பெருங்கடல் நீந்துவர் நீந்தார்
 இறைவனடி சேராதார்.