Tuesday, August 14, 2012

वर्षा की विशेषता -संत वल्लुवर




वर्षा  की विशेषता -संत  वल्लुवर 

கெடுப்பதுவும்  கெட்டார்க்குச் சார்வாய் மற்றாங்கே
எடுப்பதும் எல்லாம் மழை.


वर्षा  जब नहीं होती, जब जनता  दुखी होती,तब जनता के पुनः-जीवन  केलिए जनता की  रक्षा  केलिए .संताप दूर करने के लिए वर्षा होती है..


६.बिन  वर्षा के पृथ्वी पर घास-फूस  भी नहीं उगती.
விசும்பின் துளி வீழின் அல்லால் மற்றாங்கே  பசும் புல் தலை காண்பு அரிது.
௭.
समुद्र का पानी ही भाप बनकर  पुनः वर्षा के रूप में बरसती है.यों बरसते  समय   वर्षा का पानी  समुद्र में नहीं गिरेगा तो  समुद्र सूख जाएगा.
நெடுங்கடலும் தன் நீர்மை குன்றும்  தடிந்  தெழிலி
தான் நல்கா தாகி விடின்.


9.बिन वर्षा के अकाल  पड   जाएँ तो  मंदिरों  में पूजा अर्चना उत्सव नहीं होंगे.


சிறப்பொடு பூசனை செல்லாது  வானம்
வரைக்கு மேல் வானோர்க்கும் ஈண்டு.


௧௦.
वर्षा के बिना   अकाल हो जाने पर  दान -पुण्य तपस्या  आदि संसार में नहीं होगी .
தானம் தவம் இரண்டும் தங்கா வியன்  உலகம்
வானம் வழங்காது எனின்.